Header Ads

Maha Shivratri 2019 In Hindi :महाशिवरात्रि 2019 - जानिए दिनांक,शुभ मुहूर्त और पूजाविधि


आस्था का महापर्व : महाशिवरात्रि 

देवों के देव हैं- 'महादेव' और महादेव को प्रसन्न करने तथा उनकी आराधना करने का महापर्व है- 'महाशिवरात्रि'। भगवान शिव को भोलेनाथ भी कहा जाता है क्योंकि वह बहुत ही भोले है तथा अपने भक्तों द्वारा की गई सच्ची आराधना से तुरंत प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी सारी मनोकामनाओं को पूरा करते हैं। महाशिवरात्रि का पर्व हिंदू धर्म के लोगों के लिए आस्था का महापर्व है। इस दिन लोग व्रत- उपवास करके पूजा- पाठ करके अपने ईष्ट देव की आराधना करते हैं।

Mahashivratri 2019 :date,shubh muhurat and puja vidhi In Hindi


महाशिवरात्रि का पर्व कब मनाया जाता है?

फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस दिन भगवान शिव शंकर तथा माता पार्वती का विवाह हुआ है। इस दिन व्रत उपवास तथा पूजा पाठ करके भगवान भोलेनाथ तथा जगत जननी माता पार्वती का आशीर्वाद तथा उनकी कृपा दृष्टि भक्त प्राप्त कर सकते हैं। महाशिवरात्रि के व्रत को व्रतों में श्रेष्ठ माना गया है।



साल 2019 में महाशिवरात्रि का पर्व कब मनाया जाएगा :

इस साल महाशिवरात्रि का पर्व: 4 मार्च 2019, सोमवार को मनाया जाएगा।

क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त :

पूजा का शुभ मुहूर्त: सुबह 07:04 से दोपहर 15:20 तक है। 

निशिथकाल पूजा मुहूर्त: 24:07 से 24:57 बजे तक

 शिवरात्रि व्रत पारण समय: 06:46 से 15:26 बजे  (5 मार्च 2019 , मंगलवार )   

चतुर्दशी प्रारंभ: 4 मार्च 2019, सोमवार 16:28 बजे

चतुर्दशी समाप्त : 5 मार्च 2019, मंगलवार 19:07  बजे।

इस बार  महाशिवरात्रि का पर्व 4 मार्च, सोमवार को है।सोमवार के साथ-साथ इस बार यह पर्व श्रवण नक्षत्र में पड़ रहा है जो कि बहुत ही शुभ संयोग बना रहा है।

यह भी पढ़े : अमरनाथ गुफ़ा : अदभुत और रहस्यमयी


शिवरात्रि का महत्व:

भगवान शिव चतुर्दशी तिथि के स्वामी है इसीलिए प्रत्येक माह में आने वाले कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मासिक शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है। ज्योतिष के अनुसार चतुर्दशी तिथि के समय चंद्रमा अपनी कमजोर स्थिति में रहते हैं। चंद्रमा को शिव जी ने अपने मस्तक पर धारण कर रखा है इसलिए इस दिन शिव जी का पूजन करने से व्यक्ति का चंद्रमा मजबूत होता है।

Mahashivratri 2019 :date,shubh muhurat and puja vidhi In Hindi


महाशिवरात्रि पर कैसे करें भोलेनाथ को प्रसन्न:

महाशिवरात्रि के दिन व्रत-उपवास और पूजा पाठ का खास महत्व होता है। इस दिन अगर भक्त व्रत -उपवास व विधिवत पूजा पाठ करे तो भगवान भोलेनाथ शीघ्र प्रसन्न होकर भक्तों को मनचाहा वरदान देते हैं।
इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर घर में तथा मंदिर में जाकर भोलेनाथ की आराधना करनी चाहिए। इस दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाएं, पंचामृत (दूध ,दही ,शहद ,घी ,चीनी ) से शिवलिंग का अभिषेक करें।
इस शिवलिंग पर बेलपत्र ,भांग ,धतूरा व पुष्प चढ़ाएं। फल तथा मिष्ठान चढ़ाए। धूप - दीप जलाकर भोलेनाथ की स्तुति करें।


रुद्राभिषेक से करे भगवान शिव को प्रसन्न :

महाशिवरात्रि के दिन रुद्राभिषेक करने से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न होते हैं तथा भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करते हैं।

निम्न द्रव्यों  से करें रुद्राभिषेक :

1) जीवन के दुखों को समाप्त करने के लिए शहद से शिवलिंग का रुद्राभिषेक करें।



2) धन की प्राप्ति के लिए देसी घी से रुद्राभिषेक करें।

3)  घर में संपन्नता लाने के लिए गाय के दूध से रुद्राभिषेक करें । 

4) जीवन की बाधाएं समाप्त करने के लिए तथा घर में वैभव और संपन्नता लाने के लिए गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करें।
5) किसी विशेष उद्देश्य की पूर्ति के लिए पवित्र नदियों के जल से शिवलिंग का रुद्राभिषेक करें।

शिवलिंग का रुद्राभिषेक मंदिर में जाकर करें । अगर किसी कारणवश मंदिर नहीं जा सकते हैं तो घर पर ही पार्थिव शिवलिंग बनाकर रुद्राभिषेक करें और भगवान भोलेनाथ तथा माता पार्वती की कृपा दृष्टि पाएँ।



No comments