Header Ads

शुरू हुआ कॉमन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर । 112 Emergency Number In India In Hindi

केंद्र सरकार ने जारी किया कॉमन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर :

भारत के किसी भी हिस्से में रह रहे लोग मुसीबत पड़ने पर या परेशानियों में फसने पर बस एक ही नंबर डायल कर मदद ले सकेंगे। आपातकाल में बस एक ही नंबर डायल करते ही पुलिस, एंबुलेंस, अग्निशमन,आपदा, सड़क दुर्घटना समेत अन्य विपदाओं में भी मदद उपलब्ध हो जाएगी।


 112 इमरजेंसी नंबर इन इंडिया , इमर्जेंसी कॉल नंबर ,इमर्जेंसी नंबर 112 , 112 emergency number


कॉमन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर :

अगर आप किसी मुसीबत में फंसे हैं तो 112 नंबर पर डायल करें , आपको फौरन मदद मिलेगी। केंद्र सरकार ने नंबर 112 को कॉमन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर बना दिया है। इस एक नंबर को डायल करते ही पुलिस, अग्निशमन , एंबुलेंस , सड़क दुर्घटना ,आपदा , महिला हेल्पलाइन तथा अन्य दूसरी जरूरी हेल्पलाइन नंबरो की भी मदद मिलेगी।



ये है प्रमुख हेल्पलाइन नंबर :

विभाग                                 नंबर

पुलिस                                 100
अग्निशमन सेवा                  101
एंबुलेंस                                102
मेडिकल हेल्पलाइन              108
महिला हेल्पलाइन                181 व  1090
एड्स हेल्पलाइन                   1097

बालशोषण हॉटलाइन            1098
एयर एंबुलेंस                         9540161344

अब आपको अलग - अलग तरह की मदद के लिए अलग-अलग हेल्पलाइन नंबर याद रखने की जरुरत नहीं पड़ेगी। इन सभी नंबरों के बजाय बस 112 नंबर को डायल करते ही जरूरतमंद तक मदद फौरन ही उपलब्ध हो जाएगी।

अगले साल से पूरे देश में हो जाएगी लागू :

कॉमन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर 112 अभी 16 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शुरू किया गया है। अगले साल अर्थात साल 2020 तक इसे पूरे देश में सक्रिय कर दिया जाएगा और तब सिर्फ एक बटन दबाकर किसी भी जरूरतमंद तक मदद पहुंचा दी जाएगी।



अभी जिन 16 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इसे शुरू किया गया है,वे है- राजस्थान ,यूपी , पंजाब उत्तराखंड , आंध्र प्रदेश , केरल , मध्य प्रदेश , तेलंगाना , तमिलनाडु , गुजरात , पुडुचेरी , अंडमान , लक्षद्वीप , दादरा और नगर हवेली , दमन और दीव तथा जम्मू- कश्मीरहिमाचल प्रदेश और नागालैंड में इमरजेंसी नंबर 112 की शुरुआत पहले ही हो चुकी है।

इमरजेंसी में कैसे मिलेगी मदद ?

1. मुसीबत पड़ने पर मोबाइल फोन से नंबर 112 डायल करना होगा।

2. स्मार्टफोन के पावर बटन को तीन बार तेजी से दबाकर भी 112 पर कॉल किया जा सकेगा।

3. सामान्य फोन में 5 या 9 नंबर को लंबा दबाने पर पैनिक कॉल सक्रिय हो जाएगी।

4.लोग संबंधित राज्यों के ईआरएसएस वेबसाइट पर भी लॉग इन कर राज्य ईआरसी को आपात ईमेल या  एसओएस अलर्ट भेज सकते हैं।

5. इसके लिए 112 इंडिया मोबाइल एप का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह ऐप गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर पर मुफ्त में मौजूद है।



6.इस ऐप में महिलाओं और बच्चों को फटाफट मदद पहुंचाने के लिए ' SHOUT ' नाम से एक फीचर मौजूद है , जिससे एरिया के आस पास वाले रजिस्टर्ड स्वयंसेवकों को मदद के लिए तुरंत भेजा जाएगा ।

7.इमरजैंसी नंबर 112 डायल करते ही डायल करने वालों की ठीक-ठाक रियल टाइम लोकेशन पता लगा कर तुरंत मदद पहुंचाई जाएगी।

8. बिना सिम के भी मोबाइल से नंबर 112  डायल हो सके ऐसी व्यवस्था भी की जा रही है।

सिंगल इमरजेंसी नंबर अमेरिका और यूरोप जैसे देशों में बहुत पहले से ही लागू है। अमेरिका में है यह इमरजेंसी नंबर 911 है और यूरोप के अधिकांश देशों में यह नंबर 112 है। भारत में भी अब अन्य विकसित देशों की तरह सिंगल इमरजेंसी नंबर 112 साक्रिय हा गयी है। सचमुच , केंद्र सरकार द्वारा उठाया गया यह कदम प्रशंसनीय है।


No comments