Header Ads

कन्हेरी गुफा का रोचक इतिहास । Kanheri Caves History In Hindi


कन्हेरी गुफा का रोचक इतिहास :

कन्हेरी गुफाएँ महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में स्थित है। कन्हेरी गुफाएँ शहर के पश्चिमी क्षेत्र में बसे बोरीवली के उत्तर में स्थित है। बोरीवली इलाके में एक बहुत ही प्रसिद्ध राष्ट्रीय उघान है जिसे 'संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान' के नाम से जाना जाता है । कन्हेरी गुफाएँ संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के परिसर में ही स्थित है और यह मुख्य उद्यान से 6 किलोमीटर  और बोरीवली स्टेशन से 7 किलोमीटर दूर है।

kanheri caves,kanheri caves information in hindi,kanher caves in hindi,kanheri caves history in hindi,caves in mumbai,
Kanheri Caves

कन्हेरी गुफा तक कैसे पहुँचे ?

संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के मुख्य द्वार से गुफा तक के लिए बस सेवा चलती है। हम प्रवेश टिकट लेकर अपने निजी वाहन से भी गुफा तक जा सकते हैं ।साइकिल किराए पर ले कर भी कन्हेरी गुफा के प्रवेश द्वार तक पहुंचा जा सकता है। ये गुफाएं सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक पर्यटकों के लिए खुली रहती है।

कन्हेरी शब्द का अर्थ:

'कन्हेरी' का शाब्दिक अर्थ होता है' काला पहाड़' । कन्हेरी शब्द कृष्णागिरी का अपभ्रशं है। यह कृष्णागिरी पहाड़ी का एक भाग है।कन्हेरी गुफा समुद्रतल से 1500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।कन्हेरी गुफा का नजारा बहुत ही मनभावन है ।यह वन-संपदा से घिरी हुई है। यहां के रखरखाव की जिम्मेदारी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के हवाले है।

कन्हेरी गुफा का संक्षिप्त इतिहास:

कन्हेरी गुफाओं का निर्माण ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी से लेकर 11 शताब्दी के बीच में हुआ है। यानी इन गुफाओं की कलाकृतियाँ 2200 साल से ज्यादा पुरानी है। कन्हेरी गुफा, मौर्य और कुशना सम्राटों के शासन काल के दौरान बनाए गए थे। इन गुफाओं का निर्माण बौद्ध के द्वारा किया गया इसलिए इन गुफ़ाओ की कलाकृति बौद्ध कला को दर्शाती है। ऐसा माना जाता है कि बौद्ध धर्म पहले सोपान में पश्चिमी भारत में पहुंचा जो कन्हेरी के बहुत करीब है इसीलिए इस गुफा में बौद्ध कलाकृतियां देखने को मिलती है।

kanheri caves,kanheri caves information in hindi,kanher caves in hindi,kanheri caves history in hindi,caves in mumbai,
Kanheri Caves

कन्हेरी गुफाएं, अन्य बौद्ध मंदिरों की तरह प्राचीन और प्रारंभिक मध्ययुगीन भारतीय वास्तु शैली का अद्भुत प्रतीक है। कन्हेरी की गुफाओं में एक ही पहाड़ को तराश कर लगभग 109 गुफाओं का निर्माण किया गया है।ये सभी गुफाएं बुद्ध को कई रुपों मैं दर्शाती है। बुद्ध की प्रतिमाओं में स्थानाक बुद्ध, मानुषी बुद्ध, बोधिसत्व के संग तारा आदि को प्रदर्शित किया गया है। गुफाओं की कई बुद्ध मूर्तियां खंडित हो गई हैं। शुरुआत की गुफाओं में बुद्ध की कई अलग-अलग  मूर्तियाँ है।ज्यादातर मूर्तियाँ खड़ी अवस्था में हैं।आगे की गुफाएँ जो चढ़ाई करने के बाद आती है वे ज्यादातर बौद्ध भिक्षुओं और साधकों का निवास स्थान जैसा प्रतीत होता है।
कन्हेरी की गुफाएं बौद्ध धर्म की शिक्षा हीनयान तथा महायान का एक बड़ा केद्रं रहा है। जो सामान्य गुफाएं है वे हीनयान संप्रदाय की मानी जाती है तथा अलंकरण वाली गुफाएं महायान संप्रदाय की मानी जाती हैं। इसकी बाहरी दीवारों पर जो बुद्ध की मूर्तियाँ बनी हैं उनसे यह स्पष्ट है कि इसपर महायान संप्रदाय का बाद में प्रभाव पड़ा और हीनयान उपासना के कुछ काल बाद बौद्ध भिक्षुओं का संबंध इनसे टूट गया था जो गुप्तकाल आते-आते फिर से जुड़ गया। यह नया संबंध महायान उपासना को अपने साथ लिए आया जो बुद्ध और बोधिसत्वों की मूर्तियों से प्रभावित है।

kanheri caves,kanheri caves information in hindi,kanher caves in hindi,kanheri caves history in hindi,caves in mumbai,
Kanheri Caves

कन्हेरी गुफा के कुछ रोचक तथ्य: 

1) बोरीवली के उत्तर में, संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के परिसर में स्थित कन्हेरी गुफा देश की 15 रहस्यमयी गुफाओं में से एक माना जाता है।

2) कन्हेरी गुफा को 26 मई 2009 को राष्ट्रीय महत्व का स्मारक घोषित किया गया ।

3) यहां गुफाओं की संख्या 109 है। यह गुफा भारत की विशालतम गुफाओं में से एक हैं क्योंकि यहां गुफाओं की संख्या अजंता और एलोरा की गुफाओं से अधिक है।

4) कन्हेरी गुफा का निर्माण ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी से ग्यारहवीं शताब्दी के बीच हुआ है।

5) कन्हेरी गुफा में सबसे ऊंची भगवान बुद्ध की मूर्ति 25 फुट की है।

6) सुविधा के लिए गुफाओं पर नंबर अंकित है जिससे घूमने में कोई दिक्कत नहीं आती है।


kanheri caves,kanheri caves information in hindi,kanher caves in hindi,kanheri caves history in hindi,caves in mumbai,
Kanheri Caves

7) गुफाओं तक पहुंचने के लिए पहाड़ों को काटकर सीढ़ियां बनाई गई है।

8) कन्हेरी की गुफाओं में एक ही पहाड़ को तराश कर लगभग 109 गुफाओं का निर्माण किया गया है। यहाँ बेसाल्ट की चट्टान को तराश कर गुफाओं को सुंदर रुप दिया गया है।

9) यह गुफा समुद्र तल से 1500 फीट की ऊँचाई पर स्थित हैं और मुंबई से यह 40 किलोमीटर दूर है।

10) इस गुफा की कलाकृतियाँ बौद्ध कला को दर्शाती है। 


सचमुच ,कन्हेरी गुफा हमारे इतिहास के अनमोल धरोहर में से एक है। अगर देश के सात अचरजों की बात की जाए तो इसमें कन्हेरी गुफा का नाम भी अवश्य आना चाहिए।


No comments