Header Ads

बारिश के मौसम मे खाएं ये फल । Fruits That Are Fit For Monsoon

Monsoon Fruits: खाए और रहे सेहतमंद

गर्मी के बाद मानसून का इंतजार हम सभी को रहता है। मानसून के आने के बाद हर किसी को तपती गर्मी और चिलचिलाती हुई धूप से राहत और सुकून मिलता है।
बरसात का मौसम जितना सुहाना होता है उतना ही सावधान रहने का भी होता है। इस मौसम में जरा सी भी असावधानी हमें वायरल,फ्लू , पेट खराब, इंफेक्शन और हाजमें में से जुड़ी बहुत सी  बिमारियों का शिकार बना सकती है। ऐसे मौसम में हमें अपने साथ-साथ, बड़े  और बच्चों के खान पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसलिए, आइए जानते हैं बरसात के मौसम में खाए जा सकने वाले  पाँच ऐसे फल जिनके सेवन से हम सेहतमंद रह सकते हैं।

1) जामुन ( Black Plum ):



जामुन में खनिजों की  मात्रा अधिक होती है। यह फल कार्बोहाइड्रेट और पोटेशियम से भरपूर होता है। इसने आयरन ,विटामिन और फाइबर भी पाया जाता है ।जामुन शरीर की  पाचन शक्ति को मजबूत बनाता है । कब्ज और पेट रोगों में बहुत फायदेमंद है जामुन। जामुन का सेवन हड्डियों के लिए बहुत फायदेमंद है ।यह शरीर की  
रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इससे शुगर का  स्तर भी ठीक रहता है। मुँह के छाले ठीक करने में भी जामुन प्रभावशाली माना जाता है।

२) चेरी ( Cherries):


चेरी एक स्वादिष्ट फल होने के साथ-साथ स्वास्थ्यवर्धक फल भी है । इसमें भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ए ,विटामिन सी और मिनरल्स पाए जाते हैं। चेरी जोड़ों के दर्द और सिर दर्द को कम करने में असरकारक है। यह रक्त में उपस्थित यूरिक एसिड की दर को भी कम करता है ।चेरी रक्तचाप को भी कम करती है ।यह फल शरीर में सोडियम और पोटेशियम के संतुलन को बनाए रखता है। यह कैंसर और हृदय रोग की रोकथाम में भी लाभप्रद है।

३) लीची ( Lychi ) :




 लीची का सेवन शरीर में पानी के अनुपात को संतुलित रखता है जिससे शरीर और पेट को ठंडक मिलती है। लीची में विटामिन- सी ,विटामिन -ए  ,पोटेशियम, नेचुरल शुगर और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है।  इसके आलावा यह  कार्बोहाइड्रेट,कैल्शियम ,मैग्निसियम और फाॅस्फोरस   का बढ़िया  स्रोत  है ।इसका सेवन पाचन क्रिया को सही रखता है। रोग- प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में लीची  बहुत प्रभावशाली है। लीची हमें मानसून में होने वाली बहुत सी बीमारियों से बचाता है।

 4) आलूबुखारा ( Plum ) :


 यह एक स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक फल है । आलूबुखारा  विटामिन , कैल्शियम ,मैग्नीशियम, फास्फोरस ,कॉपर ,आयरन ,पोटेशियम और फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत है ।इसमें कार्बोहाइड्रेट अधिक तथा कैलोरी और फैट कम मात्रा में पाई जाती है ।आलू बुखारा में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है इसमें फाइबर पाया जाता है जिससे पेट संबंधी समस्या कम हो जाती है और पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है । इसका सेवन आंखों के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। आलूबुखारा में मौजूद विटामिन- सी,इम्यूनिटी को बढ़ाता है और शरीर को स्वस्थ रखता है।

5) अनार ( Pomegranate ) 


 "" एक अनार सौ बीमार"  वाली कहावत  तो हम सभी ने सुनी है। यह कहावत इसके अद्भुत औषधिय गुणों के कारण ही प्रचलन में आई थी । अनार में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है ,जो पाचन क्रिया को तंदुरुस्त रखता हैं ।विटामिन -सी और एंटी-ऑक्सीडेंट तत्वों से भरपूर यह फल हमारे शरीर के इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाता  है।इसमें मौजूद फॉलिक एसिड उच्च रक्तचाप और एनीमिया के खतरें को कम करता है।दिल का रोग ,पेट की समस्या दूर करने के लिए ,शरीर की रोग प्रतिरोधक  क्षमता  बढ़ाने के लिए तथा खून की कमी को दूर करने के लिए अनार बहुत उपयोगी है ।






No comments